Thursday, 9 July 2009

भगवान ने बनाया ये खुबसूरत जहाँफ़िर बनाये ये हरेभरे जंगलये खुबसूरत नदियाऔर इन खूबसूरती को महसूस करने और जहाँ को और सुंदर और हरा भरा बनाने भगवान ने बनाये पंछी और खुबसूरत जानवरजिन्हें एक चक्र में झिंदगी दी और उन्होंने उस चक्र को निभाया भीफ़िर भगवान को लगा खूबसूरती ज्यादा हो गई बहोत अच्छा वातावरण बन रहा हैतो फ़िर भगवान ने इंसान को बनायाजिस ने हर खूबसूरती को बिगड़ना शुरू कियाहरे भरे जंगल गायब हो रहे हैनदिया प्रदूषित या गायब हो रही हैपंछी इंसानों के खाने में या शौख में ख़तम हो रहे हैजानवरों का चक्र ख़तम हो गया अब वो भी जो जहा मिले खा रहे है
ये सब देख के एक गाना थादुनिया बनाने वाले क्या तेरे मन में समाई .दुनिया बनाई तो बनाई इंसान को क्यो बनाया ..........

sharad acharya

No comments:

Post a Comment